रोगों से सुरक्षा प्रदान करने में मददगार है कोलोस्ट्रम

रोगों से सुरक्षा प्रदान करने में मददगार है कोलोस्ट्रम

अहमदाबाद, डा. संजय अग्रवाल। कोलोस्ट्रम प्रकृति का पहला आहार होता है। यह प्री-मिल्कफ्लूइड होता है जो सभी महिला स्तनधारियां शिशु को जन्म देने के बाद पहले कुछ दिनों तक आहार के रूप में देती है। कोलोस्ट्रम उच्च स्तरीय कॉम्प्लेक्सकॉकटेल होता है जो शिशु के प्रतिरक्षा और विकास कारकों के लिए जरूरी होता है। असल में यह बच्चों को बीमारियों से सुरक्षा प्रदान के लिए आवश्यक होता है। नवजात शिशु से मजबूत और स्वस्थ वयस्क बनने में कोलोस्ट्रम सहायक होता है। हजारों साल से कोलोस्ट्रम का उपयोग बीमारी के इलाज के लिए किया जाता रहा है। पिछले 5000 वर्षों से भारत के आयुर्वेदिक चिकित्सक और ऋषि औषधीय प्रयोजनों के लिए कोलोस्ट्रम का उपयोग करते आ रहे हैं। आयुर्वेद महाकाव्य भावप्रकाश स्पष्ट रूप से कोलोस्ट्रम की ताकत का संकेत करता है।

गाय के कोलोस्ट्रम का उपयोग शिशु को बीमारियों से बचाने के लिए शिशु आहार के रूप में किया जाता है। सल्फाड्रग और एंटीबायोटिक दवाओं के विकास से पहले, दुनिया भर के चिकित्सक कोलोस्ट्रम के एंटीबायोटिक गुण का उपयोग करते थे। अल्बर्टसबिन, जो डॉक्टर थे उनको सबसे पहले कोलोस्ट्रम के उपयोग से पोलियोवैक्सीन को विकसित करने का श्रेय मिला है। वास्तव में बोविनोकोलोस्ट्रम मूल रूप से एंटीपोलियोएंटीबॉडी से अलग होता है। कोलोस्ट्रम के रोगनिरोधी और चिकित्सीय उपयोग को एंटरोपैथोजेनिकएस्चेरिचिया कोली इंफेक्शन, शिशुओं में रोटावायरसगैस्ट्रोएंटेराइटिस, एड्स में क्रिप्टोकोकिडायसिस और दस्त, एड्स और अन्य प्रतिरक्षा-कमजोर रोगियों, दंत क्षय के गठन को रोकने और शिशुओं में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रोग को रोकने में मदद करता है।

कोलोस्ट्रम प्रकृति का सही भोजन है। इसमें स्वास्थ्य और जीवन शक्ति के लिए आवश्यक सभी प्राकृतिक पोषक तत्व शामिल हैं। यह महत्वपूर्ण विकास और उपचार कारकों का केवल 100 फीसदी प्राकृतिक स्रोत है और इसे लैबोरेटरी में फिर से उत्पादित करने की जरूरत नहीं होती है। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, वायरस, बैक्टीरिया और परजीवियों से लड़ता है। यह बेहतर पाचन और बॉवेलफंक्शन, शरीर और मस्तिष्क को फिर से नवजीवन प्रदान करने में मदद करता है। यह एथलिट्स के मांसपेशियों को सशक्त करने और फिर से ऊर्जा प्रदान करने में सहायता करता है। यह पुराने दर्द और जोड़ों के दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। दूसरे शब्दों में कहे तो इसमें सभी अन्य स्रोतों में पाए जाने वाले प्रतिरक्षा और विकास कारक शामिल हैं और जो सारे स्तनधारियों जिसमें मनुष्य भी शामिल हैं उसको भी लाभ पहुंचा सकता है।
पिछले दो दशकों में किए गए शोध ने साबित किया है कि बोवाइनकोलोस्ट्रम प्रतिरक्षा प्रणाली के समर्थन के लिए उपलब्ध सबसे प्रभावी पोषण की खुराक में से एक है। यह टिशू रिपेयरिंग करने में बहुत काम आता है। इसमें कई प्रतिरक्षा प्रणाली और विकास कारक के साथ-साथ आवश्यक पोषक तत्व, ट्रिप्सिन और प्रोटीज अवरोधक शामिल हैं जो गैस्ट्रो में नष्ट होने से बचाता है। कोलोस्ट्रम में प्रतिरक्षाकारक बैक्टीरिया, खमीर, वायरस और कवक जैसे हानिकारक आक्रमणकारियों से लडऩे में शरीर की मदद करते हैं। इसमें इम्युनोग्लोबुलिन ए, डी, ई, जी, और एम शामिल हैं।
आईजीजीलिम्फ और सर्कुलेटरीसिस्टम में विषाक्त पदार्थों और रोगाणुओं को बेअसर करता है। इसमें लैक्टोफेरिन होता है जो एक एंटीवायरल, एंटीबैक्टिरीयल, एंटीइंफ्लैमटोरी, आयरन बाइन्डिंग प्रोटीन है जिसमें कैंसर, एचआईवी, कैंडिडाअल्बिकैन और अन्य संक्रमणों में चिकित्सीय प्रभाव होते हैं। अनुसंधानों से यह पता चलता है कि कोलोस्ट्रम सप्लीमेंट के रूप में बीमारी से सुरक्षा प्रदान करने में मदद करता है, इसलिए इसे ‘मदर ऑफ सप्लीमेंट्स’ से कहा जाता है। बोवाइनकोलोस्ट्रम जैविक रूप से सभी स्तनधारियों को स्थानांतरित करने में सक्षम होता है, जिसमें मनुष्य जाति भी शामिल होता है। प्रतिरक्षा प्रणाली का त्रढ्ढ घटक मानव प्रणाली में लगभग 75 फीसदी एंटीबॉडी का उत्पादन करता है। संक्रामक रोग से लडऩे के लिए एड्स/ एचआईवी रोगियों की क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है, साथ ही पुरानी सूजन और दस्त से आंत को नुकसान होने से आंशिक रूप से बचाता है। जब कोलोस्ट्रम को पूरक के रूप में नियमित रूप से लिया जाता है, तो त्वचा अधिक युवा दिखाई दे सकती है, उम्र और लिवर स्पॉट कम हो सकते हैं और बॉडी मास, डेन्सिटी और लिनमसल्स में वृद्धि होती है। कोलोस्ट्रम में ईजीएफ (एपिडर्मलग्रोथफैक्टर) जैसे अन्य महत्वपूर्ण विकास कारक शामिल हैं, जो त्वचा के नवजीवन प्रदान करने और घाव भरने को प्रोत्साहित करने की उच्चतम क्षमता को प्रदर्शित करता है। यह मांसपेशियों के ताकत को भी बढ़ा सकता है और हड्डी के विकास और मरम्मत में सहायता करता है।
बाक्स
बोवाइनकोलोस्ट्रम का रोजाना सेवन उत्तम
मानव शरीर को प्रकृति ने प्रदूषण मुक्त हवा, पानी और प्रकृति के भोजन के लिए डिज़ाइन किया है। अब सब कुछ प्रदूषित हो गया है और भोजन की आदतें पूरी तरह से बदल गई हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली के परिणाम असंतुलन होता है जो बीमारियों के कारण होता है। फिर भी, मदरनेचर इतना दयालु है और उसने कई इम्यूनिटीबूस्टर प्रदान किए हैं और बोवाइनकोलोस्ट्रम इस तालिका में सबसे ऊपर आता है। हमें हर दिन अच्छी गुणवत्ता वाले बोवाइनकोलोस्ट्रम का सेवन करने की आदत डालनी चाहिए और अपनी प्रतिरक्षा स्तर को बनाए रखना चाहिए। यह जीवन भर की प्रतिरक्षा की नींव बनाता है। बोवाइनकोलोस्ट्रम में मानव कोलोस्ट्रम की तुलना में अधिक शक्ति होती है। कोलोस्ट्रम में एंटीबॉडीज आंत में रहते हैं, जिससे आपके प्राकृतिक एंटीबॉडी का स्तर बढ़ जाते हैं। जब एक रोगाणु शरीर से आक्रमण करता है तो वह खुद को इससे जोड़ लेता है। एक बार एंटीबॉडी जुड़ जाने के बाद, रोगाणु आंत की दीवार से चिपक नहीं पाता है और वह सिस्टम के माध्यम से बिना नुकसान पहुँचाये गुजर जाता है।

https://medicarenews.in/news/22341

Give a Reply